अपना शिष्य बना लो ब्रह्मज्ञानी

गुरु जी ने शिष्य से पूंछा - माता पार्वती ने भगवान शिव को वर क्यों चुना ? कारण सहित बताओ ।
शिष्य भगवान शिव कपडे नहीं पहनते थे इसलिए कपडे धोने का कोई लफढ़ा ही नहीं था ।
माथे पर चांद विद्यमान है, लाइट ही लाइट बिजली जाने का डर नही।
जटाओं मे गंगाजी विराजती हैं पानी ही पानी , पम्प ख़राब होने की चिन्ता नहीं ।
कंद मूल फल जो भगवान शिव खाऐगै वही हम खाऐगे अर्थात खाना बनाने की जरूरत नही।
न सास न ननद मतलब कोई लडाई झगड़े का डर नहीं ।
पहाड पर घर था झाडू पोछे की चिंता नही
गुरु जी विधार्थी के पैर पकड़कर मुझे अपना शिष्य बना लो ब्रह्मज्ञानी

हँसने का मौका ही कब दूँगी

एक युवती ने अपना मंगेतर सहेली को दिखाया तो वो बोली- 'लड़का तो ठीक-ठाक है
पर जब हँसता है तो इसके दाँत बिलकुल भी अच्छे नहीं लगते
युवती बोली- 'वैसे भी मैं शादी के बाद इसे हँसने का मौका ही कब दूँगी

Idhar aa be

Before marriage : Come here, Bae.
After marriage : Idhar aa be.

गल्स कालेज़ के पास ऐसा कोई बोर्ड नही होता

गल्स कालेज़ के पास ऐसा कोई बोर्ड नही होता
जिसके ऊपर लिखा हो धीरे चलीऐ आगे कालेज़ है
क्युंकि सबको पता है यहां सब साले धीरे ही चलेंगे

Branded पहनते है

हमारा बस चले तो हम उसे अपने जूतों के पास खड़ा कर दे,
लेकिन क्या करू, कम्बख्त हम जूते भी
Branded पहनते है

हड्डी नहीं मेरा हुक टूटा है.

डॉक्टर : जोर से सांस लो. और जोर से... वेरी गुड..और जोर से.... और जोर से.....
अचानक आवाज आती है 'खटाक'
डॉक्टर : खुश होते हुए बोला- वेरी गुड बीमारी का पता चल गया.... हड्डी में फ्रैक्चर है
महिला :पता चल गया कि तू झोला छाप डॉक्टर है, हड्डी नहीं मेरा हुक टूटा है.

 

Load more...